Biology (NTSE/Olympiad)  

6. प्रजनन

लैंगिक प्रजनन

लैंगिक प्रजनन गुणन की एक विधि है जिसमें एक बच्चा युग्मकों के निर्माण एवं संलयन की प्रक्रिया द्वारा उत्पन्न होता है।
लैंगिक प्रजनन के गुण:
विचलन: गुणसूत्रों के प्रतिस्थापन तथा जीन विनिमय के कारण, लैंगिक प्रजनन से सभी लक्षणों में विचलन आ जाते है। इसलिए दो व्यष्टियां कभी समान नहीं होती हैं।
उर्वरता तथा जनन क्षमता: यह व्यष्टियों की उर्वरता एवं जनन क्षमता को नियमित करता है।
समष्टि की विशिष्टता: लैंगिक प्रजनन के दौरान व्यष्टियों में जीन प्रवाह के कारण, समष्टि की विशिष्टता नियमित रहती है जबकि सभी व्यष्टियों में एक-दूसरे के साथ अधिक समान होती हैं।
उद्विकास: आनुवंशिक बदलाव, लैंगिक जनन से आते है जो नये रूप के उद्विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है।
पुष्पोद्भिद पादपों में लैंगिक प्रजनन: एक पुष्प में निम्न भाग होते है।

बाह्यदल: बाह्यदल हरा बाह्यतम पर्ण-समान पुष्पीय अंग है जो कलिका अवस्था में यह पुष्प की रक्षा करता है। परिपक्व अवस्था में यह अन्य पुष्पीय अंगों को सहायता प्रदान करते है।

यदि आप भी दुसरे स्टूडेंट्स / छात्र को ऑनलाइन पाठ्यक्रमों के बारे में जानकारी देना चाहते है तो इसे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर अधिक से अधिक शेयर करे | जितना ज्यादा शेयर होगा, छात्रों को उतना ही लाभ होगा | आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए है |

×

एन. टी. एस. ई . Biology (कक्षा X)


एन. टी. एस. ई . Biology (कक्षा IX)


विस्तार से अध्याय देखें

भौतिक विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

रसायन विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

भूगोल CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

जीव विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

लोकतांत्रिक राजनीति CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

अर्थशास्त्र CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

इतिहास CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें