Biology (NTSE/Olympiad)  

8. हमारा पर्यावरण

पारिस्थितिक तंत्रा की संरचना

पारिस्थितिक तंत्रा में दो प्रकार के घटक होते है, जैविक तथा अजैविक।
जैविक घटक:
इसमें पारिस्थितिक तंत्रा में उपस्थित सभी जीव सम्मलित है। एक पारिस्थितिक तंत्रा में विभिन्न जैविक जीवों की जनसंख्या के संघटन को जैविक समुदाय भी कहते है। स्वपोषीयो को उत्पादक भी कहा जाता है। सभी दूसरे जीव जो अपने स्वंय का भोजन निर्मित करने के अयोग्य है, विषमपोषी कहलाते है। विषमपोषी दो प्रकार के होते है उपभोक्ता तथा अपघटक।
उत्पादक : ये हरे पादप होते है, नील हरित शैवाल (= सायनोबेक्टिरिया), कुछ जीवाणु तथा अल्प मुक्त प्लावी स्वपोषी जीव पादप प्लवक कहलाते है। इन सभी में पर्णहरित होता है। भोजन में निहित ऊर्जा रासायनिक ऊर्जा होती है। यह सूर्य ऊर्जा का रूपान्तरण होती है, जो उत्पादको के पर्णहरित की सहायता द्वारा अवशोषित होती है। इसलीय उत्पादको को रूपान्तरक तथा प्रवर्तक भी कहते है।

यदि आप भी दुसरे स्टूडेंट्स / छात्र को ऑनलाइन पाठ्यक्रमों के बारे में जानकारी देना चाहते है तो इसे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर अधिक से अधिक शेयर करे | जितना ज्यादा शेयर होगा, छात्रों को उतना ही लाभ होगा | आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए है |

×

एन. टी. एस. ई . Biology (कक्षा X)


एन. टी. एस. ई . Biology (कक्षा IX)


विस्तार से अध्याय देखें

भौतिक विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

रसायन विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

भूगोल CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

जीव विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

लोकतांत्रिक राजनीति CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

अर्थशास्त्र CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

इतिहास CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें