Chemistry (NTSE/Olympiad)  

2. बंधन के मूल तथ्य

धातुओं में बंधन

आप जानते है कि धातुऐं कठोर ठोस होती है तथा ये परमाणुओं से बनी होती है। इससे स्थापित/निर्धारित होता है कि धातु में परमाणु एक दूसरे के बहुत पास बंधे होते है।
वह बल जो धातुओं में परमाणुओं को पास पास बांधे रखता है धात्विक बंध कहलाता है।
धातु परमाणु एक, दो या तीन इलेक्ट्रॉन की कमी से धनावेशित आयन बनाता है जिसे धनायन कहते है।
इस प्रकार इलेक्ट्रॉन की कमी से धातु में मुक्त गति होती हैं अर्थात ये इलेक्ट्रॉन गतिशील हो जाते है परन्तु धनायन अपनी स्थिति नहीं छोड़ते है। इसलिए धातु जालक में ये माना जाता है कि धातु आयन इलेक्ट्रॉनों के समुद्र में डुबा हुआ है। गतिशील इलेक्ट्रॉनों की उपस्थिति के कारण धातुऐं ऊष्मा व धारा की अच्छी चालक होती है।

यदि आप भी दुसरे स्टूडेंट्स / छात्र को ऑनलाइन पाठ्यक्रमों के बारे में जानकारी देना चाहते है तो इसे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर अधिक से अधिक शेयर करे | जितना ज्यादा शेयर होगा, छात्रों को उतना ही लाभ होगा | आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए है |

×

एन. टी. एस. ई . Chemistry (कक्षा X)


एन. टी. एस. ई . Chemistry (कक्षा IX)


विस्तार से अध्याय देखें

भौतिक विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

रसायन विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

भूगोल CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

जीव विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

लोकतांत्रिक राजनीति CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

अर्थशास्त्र CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

इतिहास CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें