Chemistry (NTSE/Olympiad)  

2. बंधन के मूल तथ्य

याद रखने योग्य बिन्दु (बंधन के मूल तथ्य)

♦ रासायनिक बंध एक आकर्षण बल है जो अणु में परमाणुओं को एक साथ बांधे रखता है।
♦ एक विध्युतसंयोजी बंध एक परमाणु से अन्य परमाणु में इलेक्ट्रॉनों के पूर्ण स्थानांतरण के परिणामस्वरूप निर्मित होता है।
♦ परमाणु जो इलेक्ट्रॉन खो देते है तथा धनायन बनाते है विध्युतधनी कहलाते है।
♦ परमाणु जो इलेक्ट्रॉन ग्रहण करते है तथा ऋणायन बनाते है विध्युतऋणी कहलाते है।
♦ समीपस्थ उत्कृष्ठ गैस के समान स्थायी विन्यास प्राप्त करने के लिए एक परमाणु द्वारा खोए गए एवं ग्रहण किए गए इलेक्ट्रॉनों की कुल संख्या परमाणु की संयोजकता कहलाती है।
♦ एक परमाणु में निर्मित विधुतसंयोजी बंधों की संख्या इसकी विध्युतसंयोजकता कहलाती है।
♦ सहसंयोजक बंध संयुग्मी परमाणुओं के मध्य इलेक्ट्रॉनों के सांझे द्वारा निर्मित होता है।
♦ सहयोजक बंध युक्त यौगिक सहसंयोजक यौगिक कहलाते है।
♦ समीपस्थ उत्कृष्ठ गैस का स्थायी विन्यास प्राप्त करने के लिए सहसयोजक बंध के निर्माण में दिए गए परमाणु द्वारा सांझित इलेक्ट्रॉनों की कुल संख्या इसकी संयोजकता कहलाती है।
♦ बल जो धातु में परमाणुओं को पास पास बांधे रखता है धात्विक बंध कहलाता है।

यदि आप भी दुसरे स्टूडेंट्स / छात्र को ऑनलाइन पाठ्यक्रमों के बारे में जानकारी देना चाहते है तो इसे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर अधिक से अधिक शेयर करे | जितना ज्यादा शेयर होगा, छात्रों को उतना ही लाभ होगा | आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए है |

×

एन. टी. एस. ई . Chemistry (कक्षा X)


एन. टी. एस. ई . Chemistry (कक्षा IX)


विस्तार से अध्याय देखें

भौतिक विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

रसायन विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

भूगोल CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

जीव विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

लोकतांत्रिक राजनीति CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

अर्थशास्त्र CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

इतिहास CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें