Chemistry (NTSE/Olympiad)  

2. बंधन के मूल तथ्य

बंध

हम जानते है कि एक परमाणु इसकी समीपस्थ उत्कृष्ठ गैस के अर्जित इलेक्ट्रॉनिक विन्यास द्वारा स्थायित्व प्राप्त करने की प्रवृत्ति रखता है। यह रासायनिक संयोजन के दौरान निम्न में से किसी भी एक तरीके से प्राप्त किया जा सकता है :
1. एक परमाणु से अन्य परमाणु में इलेक्ट्रॉन के स्थानांतरण द्वारा
2. दो संयुग्मी परमाणुओं के मध्य संयोजी इलेक्ट्रॉनों के सांझे द्वारा
यहाँ कुछ बल पाया जाता है जो अणु में परमाणुओं को एक साथ बांधे रखती है। वह आकष्र्ाी बल जो दो परमाणुओं, दो अणुओं, दो आयनों या इनके संयोजन को एक साथ बांधे रखते है रासायनिक बंध कहलाता है।
समीपस्थ उत्कृष्ठ गैस के इलेक्ट्रॉनिक विन्यास को प्रदर्शित करने के दो तरीके बंधों के दो प्रकार - विध्युतसंयोजी बंध व सहसंयोजी बंध देता है।

यदि आप भी दुसरे स्टूडेंट्स / छात्र को ऑनलाइन पाठ्यक्रमों के बारे में जानकारी देना चाहते है तो इसे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर अधिक से अधिक शेयर करे | जितना ज्यादा शेयर होगा, छात्रों को उतना ही लाभ होगा | आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए है |

×

एन. टी. एस. ई . Chemistry (कक्षा X)


एन. टी. एस. ई . Chemistry (कक्षा IX)


विस्तार से अध्याय देखें

भौतिक विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

रसायन विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

भूगोल CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

जीव विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

लोकतांत्रिक राजनीति CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

अर्थशास्त्र CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

इतिहास CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें