Democratic Politics (NTSE/Olympiad)  

4. जाति, धर्म और लैंगिक मसले

लैंगिक मसले और राजनीति

(a) श्रम के लैंगिक विभाजन :
सामाजिक असमानता का यह रूप हर जगह नज़र आता है। यह दो स्तर पर देखा जा सकता है :
1. निजी विभाजन 2. सार्वजनिक विभाजन
लड़कें और लड़कियों के पालन पोषण के क्रम में यह मान्यता उनके मन में बैठा दी जाती हैं कि औरतों की मुख्य जिम्मेदारी गृहस्थी चलाना और बच्चों का पालन पोषण करना है। यह चीज अधिकतर परिवारों के श्रम के लैंगिक विभाजन से झलकती हैं।
औरतें घर के अंदर का सारा काम काज, जैसे - खाना बनाना, सफार्इ करना, कपड़े धोना और बच्चों की देखरेख करना आदि करती हैं।
मर्द घर के बाहर का काम करते हैं। ऐसा नहीं है कि मर्द ये सारे काम नहीं कर सकते। दरअसल वे सोचते हैं कि ऐसे कामों का करना औरतों के जिम्मे है। पर जब सिलार्इ-कटार्इ से लेकर इन्हीं सारे कामों के लिए पैसे मिलते हैं, तो मर्द खुशी-खुशी यही काम घर के बाहर करते हैं। अधिकांश दर्जी या होटल के रसोइए पुरूष होते हैं।
इसी प्रकार औरतें घर के बाहर का काम नहीं करती हों - ऐसा भी नहीं है। गाँवों में िस्त्रायाँ पानी और जलावन जुटाने से लेकर खेत में खटने तक का काम करती है।
सच्चार्इ यह है कि अधिकतर महिलाएँ अपने घरेलू काम के अतिरिक्त अपनी आमदनी के लिए कुछ न कुछ काम करती हैं लेकिन उनके काम को ज्यादा मूल्यवान नहीं माना जाता और उन्हें दिन रात काम करके भी उसका श्रेय नहीं मिलता।

यदि आप भी दुसरे स्टूडेंट्स / छात्र को ऑनलाइन पाठ्यक्रमों के बारे में जानकारी देना चाहते है तो इसे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर अधिक से अधिक शेयर करे | जितना ज्यादा शेयर होगा, छात्रों को उतना ही लाभ होगा | आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए है |

×

एन. टी. एस. ई . Democratic Politics (कक्षा X)


एन. टी. एस. ई . Democratic Politics (कक्षा IX)


विस्तार से अध्याय देखें

भौतिक विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

रसायन विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

भूगोल CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

जीव विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

लोकतांत्रिक राजनीति CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

अर्थशास्त्र CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

इतिहास CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें