Economics (NTSE/Olympiad)  

3. मुद्रा तथा साख

भारत में साख के क्षेत्राक

1. औपचारिक ऋणदाता संसाधन :
इसमें वे संसाधन शामिल है जो सरकार द्वारा नियंत्रितकिये जाते है। बैंक तथा सहकारी बैंक औपचारिक श्रेणी में आते है। ब्याज की दर बहुत कम होती है।
2. अनौपचारिक ऋणदाता संसाधन :
इसमें साहुकार, व्यापारी, रिश्तेदार तथा दोस्त शामिल हैं।
औपचारिक तथा अनौपचारिक साख के मध्य अन्तर

औपचारिक क्षेत्राक ऋण के असमान वितरण :
स्वत्रांता के 50 वर्षों से अधिक के पश्चात् ग्रामीण तथा गरीब लोगों की अधिक संख्या अपने आवश्यक ऋणों के लिए औपचारिक संसाधनों पर निर्भर रहते है। ऋण का 85% अनौपचारिक संसाधनों से ग्रामीण क्षेत्रों में गरीब परिवारों द्वारा लिया जाता है। गरीब परिवार कर्जें के लिए अधिक भुगतान करते है।

यदि आप भी दुसरे स्टूडेंट्स / छात्र को ऑनलाइन पाठ्यक्रमों के बारे में जानकारी देना चाहते है तो इसे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर अधिक से अधिक शेयर करे | जितना ज्यादा शेयर होगा, छात्रों को उतना ही लाभ होगा | आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए है |

×

एन. टी. एस. ई . Economics (कक्षा X)


एन. टी. एस. ई . Economics (कक्षा IX)


विस्तार से अध्याय देखें

भौतिक विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

रसायन विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

भूगोल CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

जीव विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

लोकतांत्रिक राजनीति CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

अर्थशास्त्र CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

इतिहास CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें