Economics (NTSE/Olympiad)  

3. मुद्रा तथा साख

मुद्रा विनिमय का एक माध्यम

मुद्रा विनिमय का एक माध्यम
(1) यह मुद्रा का महत्वपूर्ण उद्देश्य है। इसका अर्थ है कि मुद्रा लेन-देन के विनिमय में वस्तुओं तथा सेवाओं के लिए मध्यवर्ती के रूप में कार्य करती है। लेन-देन के माध्यम के रूप में मुद्रा का उपयोग विनिमय प्रणाली में आवश्यकताओं के दोहरे संयोग की बड़ी कठिनार्इ दूर करता है।
(2) मुद्रा का यह उद्देश्य समय तथा स्थान के आधार पर वगीकृत सभी लेन-देन रखता है। अब, व्यापारी किसी भी समय वस्तुओं को बेच सकता है तथा उन्हें उपयुक्तता में रख सकता है।
आवश्यकताओं का दोहरा संयोग :
इसका अर्थ है कि दोनों पार्टियाँ अर्थात् व्यापारी तथा खरीददार एक-दूसरे के माल को खरीदने व बेचने के लिए सहमत है। विनिमय प्रणाली में, आवश्यकताओं का दोहरा संयोग होना अनिवार्य विशेषता है। परन्तु जब मुद्रा उपयोग की जाती है यह आवश्यकता दूर होती है
मुद्रा के लाभ :
1. यह विनिमय के माध्यम के रूप में उपयोग की जाती है।
2. यह लोगों को आर्थिक स्वतंत्राता प्रदान करती है।
3. यह वस्तुओं तथा सेवाओं के खरीदने के लिए उपयोग की जाती है।
4. यह मुद्रा आपूर्ति के लिए आसान है।

यदि आप भी दुसरे स्टूडेंट्स / छात्र को ऑनलाइन पाठ्यक्रमों के बारे में जानकारी देना चाहते है तो इसे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर अधिक से अधिक शेयर करे | जितना ज्यादा शेयर होगा, छात्रों को उतना ही लाभ होगा | आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए है |

×

एन. टी. एस. ई . Economics (कक्षा X)


एन. टी. एस. ई . Economics (कक्षा IX)


विस्तार से अध्याय देखें

भौतिक विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

रसायन विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

भूगोल CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

जीव विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

लोकतांत्रिक राजनीति CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

अर्थशास्त्र CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

इतिहास CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें