Economics (NTSE/Olympiad)  

2. भारतीय अर्थव्यवस्था के क्षेत्राक

तीनो क्षेत्रो की तुलना

1. मध्यवर्ती वस्तुएँ :
ऐसी वस्तुएँ जो एक संस्था से दूसरी संस्था को बेची जाती है या तो पुन: बेचने के लिए या अगली प्रक्रिया के लिए। उदाहरण : कागज मिल द्वारा कागज बेचना यह दर्शाता है, कि यह यह मध्यवर्ती वस्तु है।
दूसरे शब्दो में ऐसी वस्तुऐं जो उत्पादन की सीमा रेखा में होती है। इन वस्तुओं का मूल्य देश की राष्ट्रीय आय में शामिल नहीं है। इनका मूल्य अंतिम वस्तुओं के मूल्य में परिवर्तित होता है।
2. अंतिम वस्तुऐं :
ऐसी वस्तुएँ जो या तो अंतिम उपभोग के लिए या राज्य निर्माण के लिए उपयोगी है। इन्हे पुन: बेचा नहीं जाता।
दूसरे शब्दो में अंतिम वस्तुएँ उत्पादन की सीमा रेखा को पार करती है तथा अंतिम उपभोक्ता द्वारा उपयोग के लिए तैयार की जाती है।
3. दोहरी गणना :
एक से अधिक बार उत्पाद के मूल्य की गणना दोहरी गणना कहलाती है।
सकल घरेलू उत्पाद : एक साल के दौरान देश के घरेलू क्षेत्रा में उत्पन्न अंतिम उत्पादों तथा सेवाओं का बाजार मूल्य है।

यदि आप भी दुसरे स्टूडेंट्स / छात्र को ऑनलाइन पाठ्यक्रमों के बारे में जानकारी देना चाहते है तो इसे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर अधिक से अधिक शेयर करे | जितना ज्यादा शेयर होगा, छात्रों को उतना ही लाभ होगा | आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए है |

×

एन. टी. एस. ई . Economics (कक्षा X)


एन. टी. एस. ई . Economics (कक्षा IX)


विस्तार से अध्याय देखें

भौतिक विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

रसायन विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

भूगोल CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

जीव विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

लोकतांत्रिक राजनीति CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

अर्थशास्त्र CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

इतिहास CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें