Economics (NTSE/Olympiad)  

4. वैश्वीकरण और भारतीय अर्थव्यवस्था

वैश्वीकरण के नकारात्मक पहलू

1. श्रमिकों का शोषण :
वृहद बहुराष्ट्रीय कम्पनियों को विस्तृत वैश्विक सम्पर्क के साथ सस्ती वस्तुओं के लिए उनके लाभ को बढ़ाने के क्रम में देखा जाता है। श्रमिकों को अधिक घण्टे काम करने तथा श्रेष्ठ समय के दौरान नियमित आधार पर राित्रा पाली में काम करने के लिए मजबूर किया जाता है। श्रमिक वैश्वीरकरण द्वारा हुए लाभ के सही साझे के लिए मना करते हैं।
2. कृषि के लिए कम महत्व :
वैश्वीकरण की नर्इ आर्थिक योजना भारतीय अर्थव्यवस्था में कृषि क्षेत्राक के महत्व को नकारती है।
3. निर्धनता उपशमन में असफल :
यह गरीबी की समस्या को सुलझाने में असमर्थ है जो कि भारत की बड़ी आर्थिक समस्या है। वैश्वीकरण की प्रक्रिया अमीर तथा गरीब के बीच अन्तर को बढ़ाती है।
4. लद्यु उद्योगों के लिए समस्या :
बहुराष्ट्रीय कम्पनियाँ उन वस्तुओं के निर्माण में जो लघु पैमाने के लिए आरक्षित थी के उत्पादन में प्रवेशित है। लघु पैमाना उद्योग बहुराष्ट्रीय कम्पनियों की होड़ करने में असमर्थ होते हैं।
5. प्रतिस्पर्धा तथा अनिश्चित रोजगार :
वैश्वीकरण तथा प्रतिस्पर्धा का दबाव श्रमिकों के जीवन को पूर्ण रूप से परिवर्तित करता है बढ़ती प्रतिस्पर्द्धा के विरूद्ध अधिकांश कर्मचारी इन दिनों कार्य करने वाले मजदूरों को ‘लचीले’ बनाते है। इसका अर्थ है कि श्रमिकों की नौकरियाँ अधिक समय तक सुरक्षित नही है।

यदि आप भी दुसरे स्टूडेंट्स / छात्र को ऑनलाइन पाठ्यक्रमों के बारे में जानकारी देना चाहते है तो इसे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर अधिक से अधिक शेयर करे | जितना ज्यादा शेयर होगा, छात्रों को उतना ही लाभ होगा | आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए है |

×

एन. टी. एस. ई . Economics (कक्षा X)


एन. टी. एस. ई . Economics (कक्षा IX)


विस्तार से अध्याय देखें

भौतिक विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

रसायन विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

भूगोल CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

जीव विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

लोकतांत्रिक राजनीति CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

अर्थशास्त्र CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

इतिहास CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें