Geography (NTSE/Olympiad)  

2. विनिर्माण उद्योग

पटसन उद्योग

पटसन उद्योग की उपयोगिता :
1. यह श्रमगहन उद्योग है इसलिए यह लोगों को रोजगार उपलब्ध करवाता है।
2. जूट निर्यात के लिए वृहत् सामान उपलब्ध करवाता है।
3. भारत जूट सामान का दूसरा बड़ा निर्यातक है।
4. कुल निर्यात मुद्रा का 20 % से भी अधिक इससे प्राप्त होता है।
वितरण :
भारत में लगभग 70 जूट मिले हैं। इनमें से अधिकांश पश्चिम बंगाल में हुगली नदी तट पर 98 किमी लम्बी तथा 3 किमी चौड़ी एक संकरी श्रृंखला में स्थित है।
हुगली नदी तट पर इनके स्थित होने के निम्न कारण हैं :
1. पटसन उत्पादक क्षेत्रों की निकटता।
2. सस्ता जल परिवहन।
3. सड़क, रेल व जल परिवहन का जाल कच्चे माल का मिलों तक ले जाने में सहायक।
4. कच्चे पटसन को संसाधित करने में प्रचुर जल।
5. पश्चिम बंगाल तथा समीपवर्ती राज्य उड़ीसा, बिहार व उत्तर प्रदेश से सस्ता श्रमिक उपलब्ध होना
6. कोलकाता का एक बड़े नगरीय केन्द्र के रूप बैंकिंग बीमा और जूट के सामान के निर्यात के लिए बंदरगाह की सुविधाएँ प्रदान करना आदि सम्मिलित है।
भारतीय जूट उद्योगों की समस्याऐं :
1. कच्चे पदार्थ की समस्याऐं।
2. अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कृित्राम वस्त्रों से और बांग्लादेश, ब्राजील, फिलपीन्स, मिस्त्रा तथा थाइलैंड जैसे अन्य देशों से कड़ी प्रतिस्पर्धा शामिल है।
3. कम मांग।
4. उच्च मूल्य।
5. उच्च उत्पादन मूल्य।
भारतीय सरकार द्वारा समस्याओं के निवारण के लिए उठाए गए कदम :
1. सरकारी नीति के कारण इसकी घरेलू माँग बढ़ी।
2. सन् 2005 में राष्ट्रीय पटसन नीति अपनार्इ गर्इ जिसका मुख्य उद्देश्य पटसन का उत्पादन बढ़ाना, गुणवत्ता में सुधार, पटसन उत्पादन किसानों को अच्छा मूल्य दिलाना तथा प्रति हैक्टेयर उत्पादकता को बढ़ाना था।
बाजार :
1. पटसन के प्रमुख खरीद्दार-अमेरिका, कनाडा, रूस, अरब देश, इंग्लैंड और आस्ट्रेलिया है।
2. बढ़ते वैश्विक पर्यावरण अनुकूलन, जैवनिम्नीकरणीय पदार्थों के लिए विश्व की बढ़ती जागरूकता ने पुन: जूट उत्पादों के लिए अवसर प्रदान किया है।

यदि आप भी दुसरे स्टूडेंट्स / छात्र को ऑनलाइन पाठ्यक्रमों के बारे में जानकारी देना चाहते है तो इसे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर अधिक से अधिक शेयर करे | जितना ज्यादा शेयर होगा, छात्रों को उतना ही लाभ होगा | आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए है |

×

एन. टी. एस. ई . Chemistry (कक्षा X)


एन. टी. एस. ई . Chemistry (कक्षा IX)


विस्तार से अध्याय देखें

भौतिक विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

रसायन विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

भूगोल CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

जीव विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

लोकतांत्रिक राजनीति CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

अर्थशास्त्र CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

इतिहास CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें