Geography (NTSE/Olympiad)  

2. विनिर्माण उद्योग

विनिर्माण उद्योगो के विकास का महत्व

किसी देश की आर्थिक उन्नति विनिर्माण उद्योगों के विकास से मापी जाती है।
1. प्राकृतिक संसाधनों का उपयोग :
विनिर्माण उद्योग न केवल कृषि के आधुनिकीकरण में सहायक हैं वरन् द्वितीयक व तृतीयक सेवाओं में रोजगार उपलब्ध कराकर कृषि पर हमारी निर्भरता को कम करते हैं।
2. संतुलित क्षेत्रा विकास :
देश में औद्योगिक विकास बेरोजगारी तथा गरीबी उन्मूलन की एक आवश्यक शर्त है। भारत में सार्वजनिक तथा संयुक्त क्षेत्रा में लगे उद्योग, इसी विचार पर आधारित थे। जनजातीय तथा पिछड़े क्षेत्रों में उद्योगों की स्थापना का उद्देश्य भी क्षेत्राीय असमानताओं को कम करना था।
3. पूँजी निर्माण में वृद्धि :
निर्मित वस्तुओं का निर्यात वाणिज्य व्यापार को बढ़ाता है। जिससे अपेक्षित विदेशी मुद्रा की प्राप्ति होती है।
4. राष्ट्रीय आय में बढ़ोत्तरी तथा विदेशी आदान प्रदान :
वे देश ही विकसित हैं जो कच्चे माल को विभिन्न तथा अधिक मूल्यवान तैयार माल में विनिर्मित करते हैं। भारत का विकास विविध व शीघ्र औद्योगिक विकास में निहित हैं।
5. नौकरी के अवसरों में बढ़ोत्तरी :
यह किसी भी देश की जनसंख्या के बड़े भाग के लिए रोजगार के अवसर बढ़ाता है।

यदि आप भी दुसरे स्टूडेंट्स / छात्र को ऑनलाइन पाठ्यक्रमों के बारे में जानकारी देना चाहते है तो इसे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर अधिक से अधिक शेयर करे | जितना ज्यादा शेयर होगा, छात्रों को उतना ही लाभ होगा | आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए है |

×

एन. टी. एस. ई . Chemistry (कक्षा X)


एन. टी. एस. ई . Chemistry (कक्षा IX)


विस्तार से अध्याय देखें

भौतिक विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

रसायन विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

भूगोल CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

जीव विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

लोकतांत्रिक राजनीति CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

अर्थशास्त्र CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

इतिहास CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें