Physics (NTSE/Olympiad)  

2. विध्युत धारा के चुम्बकीय प्रभाव

ओरेस्टेड का प्रयोग

संयोजन व्यवस्था : एक सीधातार AB बैटरी V तथा कुंजी K से जुड़ा हुआ है। तार एक चुम्बकीय सुर्इ के ऊपर क्षैतिज में रखा गया है।

क्रिया विधि : जब कुंजी बंद की जाती है, धारा चित्र में दिखाये अनुसार प्रवाहित होती है। सुर्इ एक तरफ विक्षेपित होती है। जब कुंजी को बाहर निकाला जाता है ओर तार में धारा शून्य हो जाती है, सुर्इ वापस अपनी प्रारम्भिक स्थिति (S – N) पर आ जाती है। यह दर्शाता है कि विध्युत धारा से सम्बद्ध चुम्बकीय क्षेत्र है।
जब तार में धारा की दिशा वापस उलट जाती है। सुर्इ के विक्षेपण की दिशा भी उलट जाती है। यदि धारा की दिशा समान रखी जाती है और तार सुर्इ के नीचे रखी जाती है, सुर्इ के विक्षेपण की दिशा फिर उलटी हो जाती है।

यदि आप भी दुसरे स्टूडेंट्स / छात्र को ऑनलाइन पाठ्यक्रमों के बारे में जानकारी देना चाहते है तो इसे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर अधिक से अधिक शेयर करे | जितना ज्यादा शेयर होगा, छात्रों को उतना ही लाभ होगा | आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए है |

×

एन. टी. एस. ई . Physics (कक्षा X)


एन. टी. एस. ई . Physics (कक्षा IX)


विस्तार से अध्याय देखें

भौतिक विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

रसायन विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

भूगोल CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

जीव विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

लोकतांत्रिक राजनीति CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

अर्थशास्त्र CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

इतिहास CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें