Physics (NTSE/Olympiad)  

4. प्रकाश अपवर्तन

पूर्ण आंतरिक परावर्तन

परिभाषा : जब प्रकाश सघन माध्यम से विरल माध्यम में गुजरता है तथा उस माध्यम के लिए क्रांतिक कोण से अधिक कोण पर आपतित होता है, तो यह पूर्णतया सघन माध्यम में लोट जाती है। पूर्ण इस प्रकार का प्रकाश का पुन: लौटना पूर्ण आन्तरिक (अन्दर की ओर) परावर्तन कहलाता है।

चित्र. पूर्ण आंतरिक परावर्तन
क्रांतिक कोण :
सघन माध्यम जिसके लिए अपवर्तन कोण 90º है, के लिए आपतन कोण क्रांतिक कोण कहलाता है। यह संकेत C द्वारा प्रदर्शित किया जाता हैं।
µ sin i3 = ua sin 90°

[निर्देश : µ µ का मान जितना अधिक होता है, कोण C का मान उतना ही कम होता है].
शर्तें (Condition)
(i) प्रकाश सघन माध्यम से विरल माध्यम में गुजरना चाहिए।
(ii) प्रकाश सघन माध्यम के लिए क्रांतिक कोण से अधिक कोण पर आपतित होना चाहिए।
लाभ : पूर्ण आंतरिक परावर्तन में 100% प्रकाश परावर्तित होता है, अत: प्रतिबिम्ब अधिक चमकीला बनता है।
दर्पण से सामान्य परावर्तन में, केवल 85% प्रकाश परावर्तित होता है, शेष 15% या तो काँच के दर्पण द्वारा अवशोषित हो जाता है या हल्की पालिश के कारण पारगमित हो जाता है।
सामान्य परावर्तन द्वारा निर्मित प्रतिबिम्ब कम चमकीला होता है।

यदि आप भी दुसरे स्टूडेंट्स / छात्र को ऑनलाइन पाठ्यक्रमों के बारे में जानकारी देना चाहते है तो इसे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर अधिक से अधिक शेयर करे | जितना ज्यादा शेयर होगा, छात्रों को उतना ही लाभ होगा | आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए है |

×

एन. टी. एस. ई . Physics (कक्षा X)


एन. टी. एस. ई . Physics (कक्षा IX)


विस्तार से अध्याय देखें

भौतिक विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

रसायन विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

भूगोल CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

जीव विज्ञान CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

लोकतांत्रिक राजनीति CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

अर्थशास्त्र CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें

इतिहास CBSE कक्षा 9th व 10th कोर्स देखें