Chemistry


अध्याय : 2. बंधन के मूल तथ्य

याद रखने योग्य बिन्दु (बंधन के मूल तथ्य)

♦ रासायनिक बंध एक आकर्षण बल है जो अणु में परमाणुओं को एक साथ बांधे रखता है।
♦ एक विध्युतसंयोजी बंध एक परमाणु से अन्य परमाणु में इलेक्ट्रॉनों के पूर्ण स्थानांतरण के परिणामस्वरूप निर्मित होता है।
♦ परमाणु जो इलेक्ट्रॉन खो देते है तथा धनायन बनाते है विध्युतधनी कहलाते है।
♦ परमाणु जो इलेक्ट्रॉन ग्रहण करते है तथा ऋणायन बनाते है विध्युतऋणी कहलाते है।
♦ समीपस्थ उत्कृष्ठ गैस के समान स्थायी विन्यास प्राप्त करने के लिए एक परमाणु द्वारा खोए गए एवं ग्रहण किए गए इलेक्ट्रॉनों की कुल संख्या परमाणु की संयोजकता कहलाती है।
♦ एक परमाणु में निर्मित विधुतसंयोजी बंधों की संख्या इसकी विध्युतसंयोजकता कहलाती है।
♦ सहसंयोजक बंध संयुग्मी परमाणुओं के मध्य इलेक्ट्रॉनों के सांझे द्वारा निर्मित होता है।
♦ सहयोजक बंध युक्त यौगिक सहसंयोजक यौगिक कहलाते है।
♦ समीपस्थ उत्कृष्ठ गैस का स्थायी विन्यास प्राप्त करने के लिए सहसयोजक बंध के निर्माण में दिए गए परमाणु द्वारा सांझित इलेक्ट्रॉनों की कुल संख्या इसकी संयोजकता कहलाती है।
♦ बल जो धातु में परमाणुओं को पास पास बांधे रखता है धात्विक बंध कहलाता है।

नवीनतम लेख और ब्लॉग


Download Old Sample Papers For Class X & XII
Download Practical Solutions of Chemistry and Physics for Class 12 with Solutions



महत्वपूर्ण प्रश्न



NTSE Physics Course (Class 9 & 10) NTSE Chemistry Course (Class 9 & 10) NTSE Geography Course (Class 9 & 10) NTSE Biology Course (Class 9 & 10) NTSE Democratic Politics Course (Class 9 & 10) NTSE Economics Course (Class 9 & 10) NTSE History Course (Class 9 & 10) NTSE Mathematics Course (Class 9 & 10)